अरविंद केजरीवाल सरकार ने आज दिल्ली के लिए वित्तीय वर्ष 2018-19 का बजट पेश किया. वित्त मंत्री मनीष सिसोदिया ने 12 बजे दिल्ली विधानसभा में बजट पेश किया. आपको बता दें कि मनीष सिसोदिया ने आज चौथी बार बजट पेश किया. इस बजट को मनीष सिसोदिया ने ग्रीन बजट बताया गया. बजट पेश करने से पहले सिसोदिया ने केंद्र सरकार को निशाना बनते हुए कहा, रोजगार देने में सक्षम नहीं रही केंद्र सरकार. शिक्षा और स्वास्थ्य के मामले में हम ब्रिक्स और सार्क देशों से भी पीछे हैं.

आइये जानते हैं दिल्ली बजट 2018 की 10 ख़ास बातें.

1.) 2018-19 के लिए 53000 करोड़ रुपये का बजट प्रस्तावित
2.) राजस्व से 42000 करोड़ रुपये प्राप्त होगा: मनीष सिसोदिया
3.) नगर निगम को इस साल कुल बजट का 13 फीसदी आवंटन
4.) निगम की टूटी सड़कों की मरम्मत के लिए 1000 करोड़ का अलग से बजट
5.) मोहल्ला क्लिनिक के माध्यम से सबसे बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं दे रहे है: मनीष सिसोदिया
6.) प्रदूषण को देखते हुए 1000 इलेक्ट्रिक बस लाने की योजना
7.) लास्ट माइल कनेक्टिविटी के लिए मेट्रो को 905 इलेक्ट्रिक व्हीकल देने का प्रस्ताव
8.) ऊर्जा क्षेत्र के लिए 2190 करोड़ रुपये का बजट प्रस्तावित
9.) शिक्षा के लिए 13997 करोड़ रुपये का बजट प्रस्तावित (कुल बजट का 26 फीसदी)
10.) स्कूलों में 1.20 लाख सीसीटीवी लगाए जाएंगे

और प्रमुख बातें :-

दिल्ली के सभी रेस्तरां में 5000 रुपये प्रति तंदूर की सहायता राशि दी जाएगी!
> वर्ल्ड बैंक की टीम के परामर्श से प्रदूषण के पूर्व अनुमान पर काम किया जाएगा
> 2017-18 में प्रतिव्यक्ति आय में 9.41 की बढ़ोतरी हुई है: मनीष सिसोदिया
> एल्कॉन स्कूल जैसे मामलों की वजह से हैप्पिनेस प्रोग्राम लागू होगा, पेरेंटिंग वर्कशॉप की शुरुआत होगी
> मुख्यमंत्री तीर्थ योजना की शुरुआत होगी, 2018-19 वर्ष के लिए 53 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे
> कला-संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए 36 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे
> प्रदूषण स्तर जांचने के लिए 1,000  डिस्पले मीटर लगाए जाएंगे
> ई-रिक्शा चालकों को सब्सिडी दी जाएगी