सीबीएसई ने 12वीं क्लास के इकोनॉमिक्स और 10वीं क्लास के मैथ्स का पेपर दोबारा कराने का फैसला किया है. बोर्ड ने ये फैसला पेपर लीक होने की खबरों के बाद लिया. सूत्रों के मुताबिक मंगलवार रात को मैथ्स का पेपर लीक हो गया था. जांच में पाया गया कि लीक हुआ पेपर असली पेपर से हूबहू मिलता है.

इस मामले से पीएम नरेंद्र मोदी खासे नाराज हैं. सूत्रों के मुताबिक उन्होंने बुधवार को मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावडेकर से मुलाकात की और उनसे इस मामले में सख्त से सख्त कार्रवाई करने को कहा है.

12वीं क्लास का इकोनॉमिक्स का पेपर मंगलवार को हुआ था जबकि बुधवार को 10वीं का मैथ्स का पेपर हुआ था. अभिभावकों का कहना है कि इससे बच्‍चों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. नोएडा कैम्ब्रिज स्कूल के बाहर खड़े अभिभावकों का कहना है कि बार-बार पेपर लीक होने से बच्चे परेशान हैं. पेपर लीक होने से उनकी मेहनत खराब हो गई.

हालांकि सीबीएसई की ओर से अभी ये जानकारी नहीं दी गई कि इन पेपर्स की परीक्षाएं किस दिन होंगी. बोर्ड द्वारा जारी नोटिफिकेशन के अनुसार 1 हफ्ते के अंदर उनकी वेबसाइट पर परीक्षा की तारीखों का ऐलान हो जाएगा.

इससे पहले सीबीएसई ने पेपर लीक की खबरों को खारिज किया था. बोर्ड ने कहा था कि सभी एग्जाम सेंटर पर पेपर की सील ठीक से जांची गई और उसमें किसी तरह की कोई गड़बड़ी नहीं पाई गई है. कुछ अज्ञात तत्वों द्वारा पेपर लीक की झूठी खबर फैलाने की कोशिश की जा रही है.

पेपर लीक का खुलासा उस वक्त हुआ जब दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया को एग्जाम शुरू होने के कुछ मिनट पहले ही लीक पेपर मिला. इससे बाद सिसोदिया ने तुरंत ऐजुकेशन सेक्रेटरी से बात की. जब लीक पेपर का ऑरिजनल पेपर से मिलान हुआ तो वो हूबहू वैसा ही निकला. इसके बाद सीबीएसई ने दोबारा परीक्षाएं कराने का फैसला लिया.